Followers

Sunday, January 5, 2014

mamta ki chhanv ममता कि छाँव



माँ रहती है तो सबकुछ 
कितना आसान होता है
जैसे कोई गम ...
कोई दुःख ...
कोई कठिनाई ...
बस छूकर निकल गई हो जैसे
हर तकलीफ हर गम से माँ उबारती है
बड़े ही सलीके और प्यार से समझाती है
हिम्मत और हौंसला है माँ
माँ तुझसे ही है मेरा जहाँ .....


माँ एक शब्द 
कितने अहसास
कितना प्रेम , 
कितने अपनत्व,
 कितने जज्बात
भर आँचल ममता ,
कितनी ही चिंता,,
हरपल आँखों में 
प्यारा सा सपना सजाती
अपने लाड़ले - लाड़लियों के लिए 
कितने ही त्याग देती 
एक चलती- फिरती मुस्कुराती देवी है माँ...
माँ तुझसे ही है मेरा जहाँ .....

37 comments:

  1. बहुतही सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  2. माँ तो माँ ही होती है उस जैसा और कोई हो ही नहीं सकता। सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति ....:)

    ReplyDelete
  3. सुंदर ....मर्म को छूते भाव.....

    ReplyDelete
  4. maa to bas maa hai , iske aage kya kahna ...

    ReplyDelete
  5. माँ तुझसे ही है मेरा जहाँ .....बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर भाव.......
    अच्छी रचना....
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  7. माँ वह दर्पण है जिसमे बच्चे का हर रूप दिखाई देता है |
    नया वर्ष २०१४ मंगलमय हो |सुख ,शांति ,स्वास्थ्यकर हो |कल्याणकारी हो |

    नई पोस्ट सर्दी का मौसम!
    नई पोस्ट विचित्र प्रकृति






































    |

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर. गहन भाव.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (06-01-2014) को "बच्चों के खातिर" (चर्चा मंच:अंक-1484) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सर जी
      :-)

      Delete
  10. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन एक छोटा सा संवाद - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  11. सच में माँ ऐसी ही होती है ! बहुत ही कोमल एवँ मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  12. ऐसी ही होती है माँ ! बहुत ही कोमल एवँ मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  13. काफी उम्दा रचना....बधाई...
    नयी रचना
    "अनसुलझी पहेली"
    आभार

    ReplyDelete
  14. Sach kaha .....sundar rachna..dil ko chute bhav

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और भावुक रचना, बधाई.

    ReplyDelete
  16. अति सुंदर रचना के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  17. भावपूर्ण ... माँ से ये जहान है उसी से सब खुशियाँ ... वो चाहे किसी भी पल को ख़ुशी में बदल सकती है ...

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर रचना .. माँ के बारे में जितना कहा जाये कम ही है ..

    ReplyDelete
  19. माँ ही जीवन का सार्थक सृजन देती है
    बहुत सुंदर और भावुक
    बहुत खूब--
    बहुत बहुत बधाई

    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाऐं

    ReplyDelete
  20. behatarin nahin naayab shabd aue bhawanayen

    ReplyDelete
  21. सुंदर भाव ... माँ तो बस माँ है

    ReplyDelete
  22. माँ का स्थानापन्न तो कोई भी हो ही नहीं सकता..बहुत भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  23. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (3 से 9 जनवरी, 2014) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद..

      Delete
  24. माँ एक शब्द
    कितने अहसास
    कितना प्रेम ,
    कितने अपनत्व
    कितने जज्बात
    माँ का संसार सचमुच अद्भुत है जो पग-पग में विस्‍मृत कर देता है ... उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!

    ReplyDelete
  26. माँ पर सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  27. मन के भावों का विस्तार कविता की अभिव्यक्ति में दिख रहा है.
    अच्छी लगी यह रचना ....!!

    ReplyDelete
  28. माँ सम दूजा कौन जगत में।
    सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति...माँ को नमन...
    http://himkarshyam.blogspot.in

    ReplyDelete

  30. बहुत सुन्दर रचना !

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...